Hindi

  Copy


More Options: Make a Folding Card




Storyboard Description

This storyboard does not have a description.

Storyboard Text

  • नमस्कार! आज हम भारत के एक छोटे गाँव में आई है और हम आज जानेंगे की क्या गाँव में रहना वाकई साधारण और आसान हैं। हमारे कुछ रिपोर्टर्स शहर में भी गई है, शहर की भीड़ भरी ज़िन्दगी की बारे में वाचाल करने। मैं हूँ लारा, बज़्ज़फीड येलो से, और में हूँ आपकी आवाज़! (गाँव में)
  • माना की शहर की हड़बड़ी से रहना बहतर है मगर गाँव में रहना भी तो आसान नहीं। यहाँ कड़ी महनत से किस्सान फसल उगाकर अपने घर चलाते है। और तो और इनकी कमाई ज़्यादि नही होती और गाँव में बिजली और पानी से जुडी हुई काफ़ी समस्याए परती हैं। कुछ परिवार पढ़ाई- लिखाई को ज़्यादा महत्व नही देते क्योकि उन्हें लगता है की स्कूल जाने से बेहतर है की उनके बच्चे खेतो में उनकी मदद करे।
  • अब में एक साधारण गाँव की परिवार की सभी सदस्यों से निवेदन है की वह अपनी रोज़ाना की ज़िन्दगी की बारे में कुछ बताई। इस परिवार के तीन सदस्य है: मम्मी, पाप और बेटी। इनके परिवार शहरवासियों के परिवारों से अलग है पर ज़िमीदारिया एक समान है।
  • में सुबह सवेरे ३ मील दूर जाती हूँ, पानी लेने के लिए क्योंकि हमारे गाँव में पानी की बहुत बड़ी समस्या है। मैं अपना घर सम्हालने के साथ खेत में भी अपने पत्ती की मदद करती हूँ। मेरी शिक्षा पूरी नही हो पाई क्योंकि मुझे अपने परिवार के लिए पैसे कमाने पड़े। मुझे गाँव में रहना अच्छा लगता है क्योंकि में कुदरत के बहुत करीब हूँ पर अफ़सोस हमें शहर संपदा नही मिलती और हमे खेतो में खून पसीना एक करकर काम करना होता है।
  • मैं एक किसान हूँ। परिवार का मुख्य होना आसान काम नही हैं। सबको दाना -पानी मेरी मेहनत से मिलता हैं। अगर में एक दिन काम नहीं करू तू सब भूखे ही रह जाएंगे। मुझे लगता है की अगर में शहर में रहता तो मुझे और मौके मिलते और में एक गरीब किसान नही होता और अपने परिवार को एक बेहतर ज़िन्दगी दे पाता और अपनी बेटी को शिक्षा देता। गाँव शांत और प्रकृति के पास है पर शहर निवासी होकर में हड़बड़ी की बीच मौजूद होते हुए भी ज़्यादा काम पाता। हम जहा भी जाएँगी हमे म्हणत करने होगी और ज़िन्दगी कहि भी आसान नही है।
  • मैं पाँच साल की हूँ। कभी-कभी मुझे भी खेत में काम करना परता खास तौर पर फसल के द्वारान। मैं स्कूल जाती हूँ पर ज़्यादा कुछ सीख नहीं पाती। पिताजी कहते है की जब उनके पास और पैसे होंगे तो वह मुझे एक बेहतर स्कूल में भेजेंगे और उन्हें उमीद है की मैं बड़े होकर शहर में एक अच्छी नौकरी करुँगी।
  • अपने विचारों के लिए धन्यवाद! में आशा करती हूँ की इस इंटरव्यू के बाद आप सबको गाँव की जिंदंगी की एक झलक मिल गई।
More Storyboards By gaurig
Explore Our Articles and Examples

Try Our Other Websites!

Photos for Class – Search for School-Safe, Creative Commons Photos! (It Even Cites for You!)
Quick Rubric – Easily Make and Share Great Looking Rubrics!